Monday, June 8, 2009

ग़ज़ल/तेरी नाराज़गी का क्या कहना

तेरी नाराज़गी का क्या कहना ।
अपनी दीवानगी का क्या कहना ।

कट रही है तुझे मनाने में,
मेरी इस जिंदगी का क्या कहना ।

तेरी गलियों की खाक छान रहा,
मेरी आवारगी का क्या कहना ।

तेरी मुस्कान से भरी महफ़िल,
मेरी वीरानगी का क्या कहना ।

जान पर मेरे बन गई लेकिन,
तेरी इस दिल्लगी का क्या कहना ।

इतनी आसानी से मना करना,
तेरी इस सादगी का क्या कहना ।

कोशिशें सब मेरी हुयी जाया,
ऐसी बेचारगी का क्या कहना ।

17 comments:

  1. अच्छी ग़ज़ल है.

    ReplyDelete
  2. kyaa baat hai panditjee ! ahaa !! hum kaayal ho gaye saaheb. bahut khoob. jald hee Jabalpur pahunch kar aapase miltaahoon. abhee poona main hoon, vakeel saheb. hamaare dost hue jee aap ab. door rahane kee kosshish naa keejiyeegaa ab humse. haa haa. badhaai is sundar rachna ke liye, bahut bahut.

    ReplyDelete
  3. bahut sundar boss.

    is gazal ko padhkar dil roomani sa ho gaya .. behatreen lekhan . yun hi likhte rahe ...

    badhai ...

    dhanywad.
    vijay

    pls read my new poem :
    http://poemsofvijay.blogspot.com/2009/05/blog-post_18.html

    ReplyDelete
  4. bahut achhi rachana hai..

    bahut bahut dhanyavaad aisi kriti k liye

    ReplyDelete
  5. apki is rachna ka kya kahna
    padega hame chup rahna
    nahi kah payenge kuch bhi
    apke andaz ka kya kahna

    ReplyDelete
  6. apkee rchnayen vakai achchhee hain chaturvedee jee .

    ReplyDelete
  7. लाजवाब लिखा है आपने, "तेरी गलियों की खाक छान रहा,
    मेरी आवारगी का क्या कहना |।और जब इस स्थिति से गुजरते हैं, तो लगता है मेरे लिए ही लिखा है |

    ReplyDelete
  8. क्या खूब लिखा आपने,
    आपके लेखनी का क्या कहना

    ReplyDelete
  9. Vah kya khub likha hai aapne , really great, Nice poem...
    Regards..
    DevPalmistry

    ReplyDelete
  10. sabhi gazhlen padhi janab,, aap bahut lajwab likhte hain. badhai.

    ReplyDelete
  11. इतनी आसानी से मना करना,
    तेरी इस सादगी का क्या कहना ।
    वाह वाह भाई बहुत सुंदर.

    मुझे शिकायत है
    पराया देश
    छोटी छोटी बातें
    नन्हे मुन्हे

    ReplyDelete
  12. आप लिख ही नहीं रहें हैं, सशक्त लिख रहे हैं. आपकी हर पोस्ट नए जज्बे के साथ पाठकों का स्वागत कर रही है...यही क्रम बनायें रखें...बधाई !!
    ___________________________________
    "शब्द-शिखर" पर देखें- "सावन के बहाने कजरी के बोल"...और आपकी अमूल्य प्रतिक्रियाएं !!

    ReplyDelete
  13. तेरी मुस्कान से भरी महफ़िल,
    मेरी वीरानगी का क्या कहना ।
    lazabaab

    ReplyDelete
  14. kyaa likhaa hai ji aapne..
    naaraazgi mein bhi..
    teri muskaan se bhari mahfil,,,
    meri viraangi kaa kyaa kahnaa

    ReplyDelete
  15. बहोत पसंद आयी ये रचना. किसीकी बेरुखी और लिखने वाले की बेताबी का अहेसास होता है...

    ReplyDelete